ऑक्सीजन के लिए उत्तराखंड आ रहे दिल्ली-यू.पी वाले; देहरादून के ही हेल्पलाईन नंबर बंद

 उत्तराखंड ऑक्सीजन के लिए दिल्ली और यू.पी के साथ साथ आम जनता भी लगा रही एजेंसियों क चक्कर


देहरादून: कोरोना संक्रमण के मामलों में लगातार हो रही वृद्धि के चलते ऑक्सीजन की किल्लत होना शुरू हो गया है। ऐसे में दिल्ली, यू.पी, के लोग ऑक्सीजन कि किल्लत के चलते उत्तराखंड की ऑक्सीजन एजेंसियों की ओर रूख कर रहें हैं। देहरादून जिला प्रशासन ने लोगों को ऑक्सीजन उपलब्ध कराने के लिए 10 हेल्पलाईन नंबर दिए हैं, लेकिन ये नंबर अमल में नहीं है।


 लोगों को सही समय पर ऑक्सीजन की सुविधा का ना मिलना कहीं ना कहीं ऑक्सीजन एजेंसियों की लापरवाही को दर्शाता है। बता दें कि जरूरतमंद लोगों की सहायता के लिए देहरादून जिला प्रशासन की ओर से 10 ऑक्सीजन एजेंसियों और सप्लायरों के नंबर जारी किए गए हैं लेकिन इससे लोगों को कोई राहत नहीं मिल रही है। वहीं, जरूरत पड़ने पर इन में से एक-दो ही नंबर उपयोग में आए हैं। बाकी नंबर या तो व्यस्त आए या बंद। ऐसे में सबाल ये उठता है कि लोग ऐसी स्थिति में क्या करें।


ऑक्सीजन की किल्लत के चलते दिल्ली और उत्तर प्रदेश से बड़ी मात्रा में लोगों ने उत्तराखंड की ऑक्सीजन एजेंसियों की तरफ रूख किया है। ये ज्यादातर वे लोग हैं जिन्हें किसी अपने के लिए ऑक्सीजन की जरूरत है।  कुछ उन में से ऐसे भी हैं जो बेचने के लिए ऑक्सीजन खरीदना चाहते हैं। कई प्राइवेट अस्पताल ऐसे भी हैं जहां पर मरीजों के घरवालों को ही ऑक्सीजन की व्यवस्था करने को कहा जा रहा है। जिसकी वजह से परिजनों को ऑक्सीजन के लिए इधर-उधर भटकना पड़ रहा है। ऐसे में लोगों को देहरादून की ऑक्सीजन एजेंसियों में ऑक्सीजन की पर्याप्त उपलब्धता की जानकारी मिली है, जिसके बाद जरूरतमंद यहां पहुंचे हैं। 


इन सब के बीच गौर करने वाली बात ये है कि जहां उत्तराखंड की आम जनता को ही ऑक्सीजन के लिए इतनी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है, वहीं दूसरी तरफ बाहर से आए जरूरतमंद लोगों को कैसे ये एजेंसियां ऑक्सीजन उपलब्ध करवा पाती हैं।


0/Post a Comment/Comments

Stay Conneted

Hot Widget