उत्तराखंड: पूर्व CM त्रिवेंद्र हैं बिगड़े हालातों के ज़िम्मेदार, मंत्री बोले अलग हो स्वास्थ मंत्री

फाइल फोटो: पूर्व सीएम त्रिवेंद्र और वर्तमान सीएम तीरथ

देहरादून:
उत्तराखंड में कोरोना की स्थिति बिगड़ती जा रही है. जिसमें प्रदेश के वन मंत्री डॉ. हरक सिंह अस्पतालों का निरिक्षण कर रहे हैं. इसी बीच अपने आंखों के सामने तीन लोगों को जान गवांते देख भावुक हो गए और अब वह राज्य के स्वास्थ्य मंत्री की वकालत कर रहे हैं. जिसमें वह अपनी व्यक्तिगत राय सरकार के सामने रख रहे हैं.

यह भी पढ़ें:उत्तराखंड: सैकड़ों साधु-संतों ने सरकार को दिखाया ठेंगा, बिना टेस्ट करवाए बद्रीनाथ कूच

उनका मानना है कि प्रदेश के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के पास काफी ज्यादा काम और विभाग की जिम्मेदारी है. ऐसे समय पर अधिकारियों से काम करवाना किसी चुनौती से कम नहीं है. इसलिए स्वास्थ्य विभाग अलग मंत्री देखे तो हमें अच्छे रिज़ल्ट देखने को मिलेंगे. हरक सिंह ने तो यह तक कहा है कि वह व्यक्तिगत तौर पर पूरी तरह से लॉकडाउन के पक्ष में है. अगर सम्पूर्ण लॉकडाउन होता है तभी संक्रमण की रफ्तार को रौका जा सकता है.

यह भी पढ़ें:उत्तराखंड: कहाँ हैं IIT रूडकी के पोर्टेबल वेंटीलेटर , AIIMS के सारे दावों की निकली हवा

त्रिवेंद्र कार्यकाल में नहीं थी कोई तैयारी 

वन मंत्री का कहना है कि जब कोरोना की पहली लहर आई थी तब त्रिवेंद्र कार्यकाल में में कोई तैयारी नहीं थी. जिस रफ़्तार के साथ आज हम तैयारी कर रहे हैं, ऑक्सीजन और आईसीयू बेड की व्यवस्था कर रहे है यह काम पहली लहर में किया होता तो हमें लोगों की जान का नुकसान का सामना न करना पड़ता. हरक सिंह ने आगे बताते हुए कहाँ कि शुक्रवार के दिन कोटद्वार अस्पताल में तीन लोगों को मरता हुआ देखा तो मेरे आंसू निकल आए. उस समय मुझे एहसास हुआ की हम कितने लाचार है.

यह भी पढ़ें:उतराखंड: 4 लोगों को लेकर जा रही थी ऑल्टो कार खाई में समाई, 2 लोग स्वर्ग सिधारे 2 पहुंचे अस्पताल

अगर राज्य में नहीं आया सुधर तो ली जाएगी सेना की मदद

हरक सिंह रावत ने राज्यपाल बेबी रानी मौर्य से बात करते हुए कहा कि, अगर राज्य में स्थिति ऐसे ही बिगड़ती रही तो सरकार सेना की सहायता लेगी. इस पर राज्यपाल ने सीएम से जल्द से बात करने कु बात कही है. हरक सिंह की केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से सैन्य अस्पताल से मदद को लेकर सीएम की बात की है. इसके अलावा हरक ने अफसरों को भी इस मामले में संवेदनशीलता दिखाते हुए बेहतर प्रयास करने के निर्देश दिए हैं।

0/Post a Comment/Comments

Stay Conneted

Hot Widget