उत्तराखंड: विधानसभा अध्यक्ष को जनता ने लताड़ा, दुम दबा कर भागे नेता जी

फोटो: जनता के गुस्से का सामना करते विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल

देहरादून:
'विधायक हमारे वोट पर जीतकर आते है, फिर भी लोगों को उनका इंतजार करना पड़ता है'। ऐसी बात के साथ उत्तराखंड के विधानसभा अध्यक्ष और स्थानीय विधायक प्रेमचंद अग्रवाल को गुस्साए लोगों का सामना तब करना पड़ा जब वह कोरोना टीकाकरण अभियान में देरी से पहुंचे।  

यह भी पढ़ें:उत्तराखंड जान गंवाने वाले मामलों में हिमालयी राज्यों में प्रथम, देश में टॅाप-10 पर पहुंचा

क्या है पूरा मामला:

आपको बता दें कि बीते दिन देहरादून रोड स्थित पूर्व माध्यमिक विद्यालय नंबर एक स्थित केंद्र में बीते दिन 18 से अधिक आयुवर्ग के लोगों का वैक्सीन अभियान शुरू होना था। जिसके के लिए सुबह 8 बजे से ही टीकाकरण करवाने के लिए लोग एकत्रित होना शुरू हो गए। सभी लोग चिलमिलाती धुप में अपने बारी का इंतजार कर रहे थे। लेकिन सुबह 9 बजे के बाद भी वैक्सीन लगना शुरू नहीं हुआ। जब लोगों ने स्वास्थ्यकर्मियों से पूछा तो उन्होंने बताया कि प्रेमचंद अग्रवाल द्वारा इस अभियान का शुभारंभ होना। विधानसभा अध्यक्ष करीब 11 बजे टिकाकरण के स्थान पर पहुंचे। जिससे लोगों का गुस्सा बेकाबू हो गया। 

क्या हुआ जब लोगों को आया गुस्सा:

प्रेमचंद अग्रवाल के ढाई घंटे देरी से पहुंचने के कारण गुस्साए लोगों ने उनपर फोटो सेशन के लिए इंतजार कराने का आरोप लगाते हुए जमकर खरी खोटी सुनाई और प्रेमचंद अग्रवाल ‘वापस जाओ और मुर्दाबाद’ के नारे लगाना भी शुरू का दिया। एक महिला तो  उन पर बरसते हुए बोली कि ‘विधायक हमारे वोट पर जीतकर आते है और फिर आम जनता को ही फोटो खिंचाने के लिए इंतजार कराते हैं’। यहां तक कि उन्होंने यह भी बोल दिया कि "नियमों का पालन और सोशल डिस्टेंसिंग का ज्ञान बांटने वाले विधानसभा अध्यक्ष स्वयं ही नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं"। मौके की नजाकत को समझते हुए अग्रवाल आनन फानन में अभियान का शुभारंभ कर लौट गए। जब तक विधानसभा अध्यक्ष की गाड़ी परिसर से नहीं निकली तब तक लोग नारेबाजी करते रहे।

यह भी पढ़ें:उत्तराखंड: शराब दुकाने खुलने से पहले ही लगी लंबी कतारें, जान से बढ़ कर है शराब

क्या कहना है विधायक अग्रवाल का:

अपने ओर से सफाई देते हुए अग्रवाल ने कहा कि मुख्यमंत्री ने देहरादून में सुबह 10.30 बजे अभियान का शुभारंभ किया था। इसके बाद 11 बजे से पूरे प्रदेश में टीकाकरण अभियान शुरू होना था। जानकारी के अभाव में कुछ लोग काफी पहले ही टीकाकरण केंद्र पहुंच गए। जो लोग जल्दी पहुंच गए उनका गुस्सा होना स्वाभाविक है। कुछ दो तीन लोग है जिनका काम केवल विरोध करना है। इन लोगों ने केंद्र में मौजूद लोगों को बहकाकर विवाद पैदा करने का काम किया है। उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों को शर्म आनी चाहिए। इस विरोध प्रदर्शन होने के बाद विधानसभा अध्यक्ष को प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस के अपने निशाने पर ले लिया हैं। कांग्रेस नेताओं ने घटना की कड़ी निंदा करते हुए विधानसभा अध्यक्ष पर धारा 144 और आपदा प्रबंधन अधिनियम उल्लंघन के तहत कार्रवाई की मांग की है। 

0/Post a Comment/Comments

Stay Conneted

Hot Widget