उत्तराखंड: सैकड़ों साधु-संतों ने सरकार को दिखाया ठेंगा, बिना टेस्ट करवाए बद्रीनाथ कूच

फाइल फोटो: प्रतीकात्मक चित्र
चमोली: उत्तराखंड के हरिद्वार में महाकुंभ के सम्पन्न होने के बाद चारधाम यात्रा पर रोक लगाई गई थी. यह फैसला प्रशासन द्वारा इसलिए लिया गया था, क्यूंकि अधिक भीड़ कोरोना को फ़ैलाने का माध्यम होता है. लेकिन सभी साधु संत बिना कोरोना जांच के ही बद्रीनाथ के लिए निकल चुके हैं. इस बात की सूचना मिलते ही चमोली ज़िला का प्रशासन और पुलिस हरकत में आ गई है.

यह भी पढ़ें:उत्तराखंड: कहाँ हैं IIT रूडकी के पोर्टेबल वेंटीलेटर , AIIMS के सारे दावों की निकली हवा

क्या है पूरा मामला 

प्रदेश में कोरोना का ग्राफ बढ़ता जा रहा है. जिसको देखते हुए चारधाम यात्रा को 17 मई तक स्थगित कर दिया गया था. प्रदेश की तीरथ सिंह रावत की सरकार और पुलिस प्रशासन द्वारा कोरोना की जांच की अपील निरंतर चल रही है. लेकिन इस बात को नजरंदाज करते हुए महाकुंभ से लौटे साधु संत बद्रीनाथ की यात्रा के लिए निकल गए. जिनमें से कुछ साधु संत विष्णुप्रयाग और हनुमान चट्टीतक पहुंच गए है. यात्रा मार्ग पर चल रहे साधु संतों की न तो जांच हो रही है और न ही उनके पास कोई कोविड की रिपोर्ट है. इससे संक्रमण का खतरा बढ़ता जा रहा है.

यह भी पढ़ें:उतराखंड: 4 लोगों को लेकर जा रही थी ऑल्टो कार खाई में समाई, 2 लोग स्वर्ग सिधारे 2 पहुंचे अस्पताल

क्या है प्रशासन की व्यवस्था 

इस मामले के सामने आते ही ज़िला के पुलिस अधीक्षक यशवंत सिंह चौहान ने बताया कि किसी भी व्यक्ति को बिना टेस्ट के बद्रीनाथ जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी. उन्होंने बताया कि पांडुकेश्वर में सभी साधु संतों सहित अन्य लोगों का एंटीजन टेस्ट किया जाएगा. इसी के साथ यहां आइसोलेशन की व्यवस्था भी की गई है.

0/Post a Comment/Comments

Stay Conneted

Hot Widget