उत्तराखंड: घर से लापता दो मासूमों के शव पास खड़ी गाड़ी से बरामद, पुलिस जांच में जुटी

कार से बरामद किये गए शव

हरिद्वार:
कहा जाता है अगर माँ-पिता से पहले घर का बेटा चल बसे तो घर सुनसान हो जाता है।  लेकिन अगर एक ही घर के दो चिराग बुझ जाए तो परिवार के लिए इससे बड़ी दुःख की घड़ी और कोई नहीं हो सकती।  ऐसा ही एक मामला उत्तराखंड के हरिद्वार के सामने आया है।  जहां पुलिस को दो चचेरे भाइयों के शव एक कार से बरामद हुए है। 

यह भी पढ़ें:उत्तराखंड: 18 से 44 आयुवर्ग का टीकाकरण शुरू, मुख्यमंत्री ने किया शुभारंभ

क्या है पूरा मामला:

रानीपुर क्षेत्र के सलेमपुर महदूद के रहने वाले दो चचेरे भाई फरहान (8 वर्ष) और अरहान(7 वर्ष) शुक्रवार सुबह से ही लापता हो गए थे।  जिनके न मिलने पर उनके परिजनों ने पुलिस के पास गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई।  पुलिस ने मामला दर्ज कर भाइयों को ढूंढना शुरू कर दिया।  रविवार की रात को एक कार के आस पास के लोगों को दुर्गंध आने लगी, जिसकी सूचना लोगों ने पुलिस को दी।  अनहोनी की आशंका देखते हुए पुलिस मौके पर पहुंची।  

क्या हुआ पुलिस के पहुंचने के बाद: 

उधर मौके पर एसएसपी सेंथिल अवूदई कृष्णराज एस समेत अन्य पुलिस कर्मी मौका ए वारदात पर पहुंची तो उन्होंने कार के अंदर झांक कर देखा।  उस कार में दोनों भाई के शव पुलिस को बरामद हुए।  दोनों शवों को कार से बाहर निकला गया, उनके शरीर पर चोटों के निशान दिखाई दे रहे थे।  इस कारण हत्या की आशंका जताई जा रही है।  इस बारे में एसएसपी ने कहा कि शवों को कार से बाहर निकाल कर पोस्टमार्टम के लिए भेजा जाएगा, जिसके बाद ही कुछ कहा जा सकता है।

यह भी पढ़ें:उत्तराखंड: युवा रहें सतर्क, कोरोना का ये नया रूप ले चुका है कई जानें

दो साल के गैराज में खड़ी कार किसकी है:

दोनों भाई के मौत के बाद ये सवाल हर किसी के मन में आ रहा है कि कार में शव कैसे पहुंची, कार थी किसकी और दोनों की मौत हुई कैसे हुई? मिली जानकारी के अनुसार यह बताया जा रहा है कि कार दो साल से घर के पास की गैराज में खड़ी है और कार किसी प्रॉपर्टी डीलर की है।  कार का एक दरवाजा खुला था, वहीं अन्य तीन दरवाजे लॉक थे। शवों की हालत बहुत खराब बताई जा रही है, जिससे कुछ भी बता पाना पुलिस के लिए भी मुश्किल साबित हो रही है। 

0/Post a Comment/Comments

Stay Conneted

Hot Widget