About

News 4 Himalayans: देखने और सुनने में तो यह तीन भाषा के शब्दों को तोड़-मरोड़ कर तय किया हुआ नाम है लेकिन जब आप भाषाई परिधि को लांघकर इन शब्दों को देखेंगे तो आपको देवभूमि उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश से जुड़ी ख़बरों और सूचनाओं का भंडार मिलेगा। जो आपको प्रदेश की समसामयिक घटनाओं, राजनीतिक उथलपुथल से दो-चार तो कराएगा ही लेकिन इसके साथ ही एक नजरिया भी देगा जिससे आप और अधिक जागरूक हो सकेंगे।

हमारे अनुमान से पत्रकारिता, क्रांति का जन्मदाता होने के बजाय जानकारी और जागरूकता के संवाहक के रूप में अधिक सुशील दिखाई देती है। ऐसे में हमने इसी विचार को अपना आदर्श मानकर देवभूमि को अपनी कर्मभूमि के रूप में चुना है।

अपने इस नवप्रयास में हमने तकनीक और आधुनिकता का उतना ही पुट रखा है, जो कि हमारी सभ्यता, परंपरा और आदर्शों को सही मायने में संजोकर रखे रहे और हमें समाज के वर्तमानकालिक प्रवृत्तियों के समकक्ष भी बनाए रखे। 

न्यूज़ 4 हिमालयन नामक समाचार के इस गढ़ में आपको उपयोगिता, मनोरंजन, ज्ञानवर्धन, रोजगारपरक, हिप-हॉप, धार्मिक समेत अन्य कई आयाम की ख़बरों का एक वृहद् संसार मिलेगा।

इस मंच के मध्याम से हम 24×7 आपके साथ जुड़कर समाजसेवा के इस कार्य को सहृदयता से करने के प्रयास में जुटे हुए हैं। इस दौरान हम आपके सुझाव और आलोचनाओं को साथ लेकर चलते हुए सदैव ही आगे बढ़ने को अपना ध्येय बनाए रखेंगे।

हम अपनी खबरों के माध्यम से आप पाठकों तक केवल विशलेष्णों का शुष्क ब्यौरा ही नहीं पहुंचाएंगे बल्कि स्वयं और आपको एक गतिशील विचार के माध्यम से आधुनिक इतिहास के और करीब लेकर जाने का प्रयास करेंगे।

इस दौरान हम अपनी मर्यादा का ख़याल रहते हुए इस बात का भी ध्यान रखेंगे कि कभी हमारे सामने सीमा लांघने की नौबत न आए। अपने इस प्रयास के माध्यम से हम एक आदर्श बनने की राह में आगे बढ़ चुके हैं, बस इस राह पर आपके सहयोग की आकांक्षा है...

मैं नहीं कहता मुझे

हर घर शिवालय चाहिए।

बस मुझे माँ भारती के

सिर 'हिमालय' चाहिए।।


0/Post a Comment/Comments